कोरोना संकट में भी सुरक्षित गेहूँ उर्पाजन व्यवस्था से किसान प्रसन्न

0
44

भोपाल 
प्रदेश में कोरोना संकट में भी सुरक्षित गेहूँ उपार्जन व्यवस्था से किसान प्रसन्न हैं। आगर-मालवा जिले में 15 अप्रैल से 39 केन्द्रों पर प्रतिदिन एसएमएस के माध्यम से किसानों को सूचना देकर बुलाया जा रहा है। एसएमएस से खरीदी केन्द्र पर किसानों की आवाजाही से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन आसान हो गया है। ग्राम नरवल के किसान कैलाश चन्द्र ने खरीदी केन्द्र पर अपना 11 क्विंटल गेहूँ समर्थन मूल्य पर बेचा। इन्होने खरीदी केन्द्र पर सफाई, तुलाई, स्वास्थ्य परीक्षण, बैठने और पीने के साफ पानी की व्यवस्था देख गर्मी से राहत महसूस की। बिना किसी समस्या के किसान कैलाश ने अपनी फसल की तुलाई कराई और समर्थन मूल्य की कुल राशि भी प्राप्त की।

किसान कैलाश चन्द्र फसल बेचकर जब खरीदी केन्द्र से बाहर आए, तो प्रसन्न थे। कारण पूछने पर उन्होंने कहा कि एसएमएस से सूचना मिल जाने से हमें फसल यहां लाने की तैयारी करने का समय मिल गया था। इसके बाद उपार्जन केन्द्र पर पहुँचे, तो सोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखने के लिये गोले बने होने के कारण लाइन बनाने में आसानी हुई। हाथ धोने के लिये साबुन और पानी की व्यवस्था बहुत अच्छी रही। लॉकडाउन में गेहूँ उपार्जन आसानी से होने से किसान कैलाश चन्द्र का परिवार भी प्रसन्न है।