खाड़ी में फिर बढ़ा तनाव, अब अमेरिकी युद्धपोत ने मार गिराया ईरान का ड्रोन

0
14

वॉशिंगटन
खाड़ी क्षेत्र में अमेरिकी सेना ने एक ईरानी ड्रोन को मार गिराया है। कुछ हफ्ते पहले ईरान ने अमेरिका के एक ताकतवर ड्रोन को गिरा दिया था, जिस पर अमेरिकी राष्ट्रपति ने हमले का आदेश भी दे दिया था। हालांकि बाद में उन्होंने इसे रोक दिया। अब अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने बताया है कि हॉर्मूज जलडमरूमध्य में प्रवेश कर रहे एक US युद्धपोत के लिए खतरा बने ईरानी ड्रोन को गिरा दिया गया। ऐसे में पिछले कुछ हफ्तों से शांतिपूर्ण रहे खाड़ी क्षेत्र में एक बार फिर तनाव बढ़ गया है। गौर करने वाली बात यह है कि हाल के समय में तेजी से बदले घटनाक्रमों के बीच ईरान के साथ अमेरिकी फौज की यह पहली सीधी मुठभेड़ है।

रेंज में आते ही ड्रोन हुआ तबाह
ट्रंप ने घोषणा की है कि असॉल्ट शिप USS बॉक्सर ने ईरानी ड्रोन के खिलाफ डिफेंसिव ऐक्शन लिया क्योंकि वह शिप और उस पर मौजूद क्रू को चुनौती दे रहा था। अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि बॉक्सर के 1000 यार्ड्स के दायरे में आते ही ड्रोन को नष्ट कर दिया गया।

उन्होंने कहा, 'अंतरराष्ट्रीय जलक्षेत्र में जहाजों के खिलाफ ईरान के कई भड़काऊ और शत्रुतापूर्ण कार्रवाई में से यह सबसे ताजा है।' ट्रंप ने कहा, 'अमेरिका के पास अपने लोगों, फसिलटीज और हितों की सुरक्षा करने का अधिकार है। उन्होंने दुनिया के सभी देशों से नौवहन की स्वतंत्रता और वैश्विक कारोबार को प्रभावित करने के ईरान के प्रयासों की निंदा करने को कहा है।'

ईरान बोला, अभी जानकारी नहीं
उधर, ईरान के टॉप राजनयिक मोहम्मद जरीफ ने पत्रकारों से कहा कि उनके पास अपना कोई ड्रोन गिरने की कोई जानकारी नहीं है। वह फिलहाल संयुक्त राष्ट्र के महासचिव से मुलाकात करने के लिए UN मुख्यालय पहुंचे हुए हैं।

पेंटागन के मुख्य प्रवक्ता जोनाथन हॉफमैन ने बाद में एक बयान में कहा कि स्ट्रेट ऑफ हॉर्मूज में गुरुवार सुबह लगभग 10 बजे युद्धपोत ने अपनी जद में उड़ रहे ड्रोन को नष्ट कर दिया। बयान के अनुसार, ‘ड्रोन यूएसएस बॉक्सर के इतने करीब आया कि इससे युद्धपोत को खतरा महसूस हुआ। युद्धपोत ने अपने और जहाज पर सवार कर्मियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए रक्षात्मक कार्रवाई की।’

ईरान ने कब्जे में लिया है 'विदेशी टैंकर'
अमेरिका और ईरान के बीच फिर से तनाव बढ़ने की यह खबर ऐसे समय में आई है जब ईरान ने हाल ही में एक 'विदेशी टैंकर' को अपने कब्जे में ले लिया है। बताया जा रहा है कि शिप पर पनामा का झंडा लगा है और आरोप है कि उसके 12 क्रू मेंबर्स ईंधन की तस्करी कर रहे थे।