चोरी करने में आता था मजा, पकड़ी गई तो यह सच आया सामने

0
35

नई दिल्ली
श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स (एसआरसीसी) के गर्ल्स हॉस्टल में 12 सितंबर की दोपहर चोरी करने वाला पकड़ा गया है। पहले अंदेशा था कि लड़की के भेस में कोई लड़का हॉस्टल में घुसा था। लेकिन वह लड़का नहीं, बल्कि महिला है। यह महिला पहले भी मुंबई के बांद्रा में एक कॉलेज और दिल्ली के मैत्रेयी कॉलेज में भी चोरी कर चुकी है।

खास बात यह है कि आरोपी 34 साल की महिला एसआरसीसी के गर्ल्स हॉस्टल में चोरी करने के बाद पुलिस से डरी नहीं, वह कुछ दिन बाद ही मुखर्जी नगर के राजीव गांधी हॉस्टल में भी पहुंच गई। वहां गार्ड ने उसे पकड़ लिया और फिर मुखर्जी नगर थाना पुलिस के हवाले कर दिया गया। महिला को जब एसीएमएम की कोर्ट में पेश किया गया तो वहां भी उसका व्यवहार चौंकाने वाला था। जज ने आरोपी महिला की दिमागी हालत की जांच कराने के उसे इबहास अस्पताल भिजवा दिया। इस बीच मुखर्जी नगर पुलिस से मॉरिस नगर थाना पुलिस को खबर मिली कि हॉस्टल में चोरी करने पहुंची एक महिला को पकड़ा गया है।
 
परिवार बेंगलुरू में, चोरी करने में आता है मजा
मॉरिस नगर थाना पुलिस ने जब इहबास अस्पताल में जाकर महिला से पूछताछ की तो एसआरसीसी गर्ल्स हॉस्टल की चोरी का भी राज खुल गया। पता लगा कि वहां भी इसी महिला ने वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस पूछताछ में पता लगा है कि 34 साल की आरोपी महिला नागपुर की रहने वाली है। उसका भाई और मां मेलबर्न में रहते हैं। वह खुद भी बेंगलुरू और पुणे के कॉल सेंटरों में नौकरी कर चुकी है। अच्छी अंग्रेजी बोल लेती है। लेकिन वह चोरी क्यों करती है इसका सटीक जवाब तो पुलिस अभी खोज ही रही है। लेकिन महिला का कहना है कि उसे चोरी करने में मजा आता है। महिला को इहबास से छुट्टी मिल गई है और वह पहाड़गंज के एक होटल में है।

जिस कार्ड से निकाले पैसे, उसी में लिखा था पिन नंबर
आरोपी महिला ने बताया है कि 12 सितंबर को एसआरसीसी हॉस्टल में चोरी करने के बाद उन्होंने एक एटीएम कार्ड से एटीएम में जाकर 45 हजार रुपये निकाले थे। वह कार्ड जिस स्टूडेंट का था, उसने कार्ड पर ही पिन नंबर लिखा था। इससे महिला चोर का काम आसान हो गया। इससे जुड़ी सीसीटीवी फुटेज भी पुलिस को मिल गई है। महिला ने उसके बाद कमला नगर मार्केट में जाकर शॉपिंग की थी। वहां के एक दुकानदार ने भी महिला के बारे में पुलिस को जानकारी दी है।