थर्मोकोल के हैं कितने ही साइड इफेक्ट्स

0
24

पहले जहां लोग मिट्टी के कुल्हड़ या कांच के गिलास में चाय पीना पसंद करते थे, वहीं अब इनकी जगह थर्मोकोल और प्लास्टिक के कप ने ले ली है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि जितना खतरनाक प्लास्टिक है, उतना ही खतरनाक थर्मोकोल का कप भी है। यह आगे चलकर कैंसर जैसी बीमारी का कारण बन सकता है। आजकल तो घरों में होने वाले पार्टी-फंक्शन में भी थर्मोकोल की प्लेट, कटोरी और कप का इस्तेमाल होने लगा है। लेकिन इस थर्माकोल के कितने साइड इफेक्ट्स हैं आज हम आपको बताते हैं…

बीमार बना रहा थर्माकोल
डॉक्टरों के मुताबिक थर्माकोल के कप पॉलीस्टीरीन से बने होते हैं, जो हमारी सेहत के लिए बेहद नुकसानदेह है। ऐसे में यह जरूरी है कि जितना हो सके इसके इस्तेमाल से बचें। जब हम थर्माकोल के कप में गर्म चाय डालकर पीते हैं, तो इसके कुछ तत्व गर्म चाय के साथ घुलकर पेट में चले जाते हैं और यह अंदर जाकर कैंसर जैसी गंभीर बीमारी को जन्म देते हैं। इस कप में मौजूद स्टाइरीन से आपको थकान, फोकस में कमी, अनियमित हॉर्मोनल बदलाव के अलावा और भी कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं।

ऐलर्जी
अगर आप नियमित रूप से प्लास्टिक या थर्मोकोल के कप में चाय, कॉफी या गर्म चीजें पीते हैं और ऐसे में आपको एलर्जी हो जाए, तो इसकी वजह यह कप हो सकता है। बॉडी पर रैशेज होने लगेंगे और यह धीरे-धीरे बढ़ भी सकते हैं। थर्मोकोल के इस्तेमाल से हुई ऐलर्जी का पहला संकेत गले में खराश या दर्द होना है।

पेट खराब
पेट खराब होने के पीछे भी थर्मोकोल के डिस्पोजेबल का नियमित रूप से इस्तेमाल करना हो सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह पूरी तरह से हाइजीनिक नहीं होते हैं। इनमें गर्म चीजें डालने पर इसमें जमे बैक्‍टीरिया और कीटाणु उसमें घुल जाते हैं और शरीर के अंदर पहुंच जाते हैं।

वैक्स की परत
कॉमेंट लिखेंडॉक्टर्स बताते हैं कि चूंकि यह कप थर्मोकोल से बनाए जाते हैं, इसलिए इसमें से चाय या खाने के सामान का रिसाव ना हो इसके लिए इस पर वैक्स की परत चढ़ाई जाती है। जब भी हम इनमें चाय या कॉफी पीते हैं, तो उसके साथ वैक्स भी हमारी बॉडी में जाता है। इसकी वजह से आंतों की समस्या और इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है। इससे हमारे पाचन तंत्र पर भी असर पड़ता है।