प्रशिक्षु बनकर सीखेंगे तो बनेंगे सफल राजस्व अधिकारी: श्री महावर 

0
19

बिलासपुर 
राजस्व अधिकारियों के लिए आयोजित संभाग स्तरीय दो दिवसीय कार्यशाला के दूसरे दिन आज यहां प्रार्थना सभा भवन में प्रशिक्षण दिया गया । कार्यशाला के दूसरे दिन रविवार को संभाग के सभी जिलों के सहायक कलेक्टर, अपर कलेक्टर, संयुक्त कलेक्टर, डिप्टी कलेक्टर, एसडीएम एवं उनके रीडर के लिए प्रशिक्षण सत्र का आयोजन किया गया। कार्यशाला को संबोधित करते हुए कमिश्नर श्री टी. सी. महावर ने कहा कि आप सफल तभी हैं जब आप हमेशा सीखते रहें। नियमों से खुद को अपडेट रखें।  अपने आपको हमेशा प्रोबेशनर की तरह रखें। प्रशिक्षु बनकर रहेंगे तो सीखने की ललक बनी रहेगी।

मेरी सफलता का राज है कि मैं अपने आप को प्रोबेशनर समझता हूं, अपनी जड़ों से कभी दूर नहीं जाना चाहिये। प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य अद्यतन नियमों से अवगत कराना है। कई बार मैं खुद आवेदक बनकर राजस्व अधिकारियों के पास गया हूं। तब मुझे लगा कि राजस्व अमले को समय-समय पर ट्रेनिंग की आवश्यकता है। राजस्व अधिकारियों को प्रकरणों का पंजीयन अवश्य करना चाहिये, दायरा पंजी में प्रविष्टि होनी चाहिए। पेशी की तारीख अनिश्चित नही रखनी चाहिए। हमेशा याद रखें कि आदेश त्रुटी पूर्ण ना हों। प्रकरणों को लंबित न रखें। उन्होंने कहा कि रीडर ऑर्डरशीट अच्छे से लिखना सीखें। कार्यालयीन नोटशीट ध्यानपूर्वक लिखें। नोटशीट में पृष्ठ क्रमांक अवश्य लिखें। नस्ती पूर्ण होने के बाद नस्तीबद्ध करने का आदेश अवश्य लें। राजस्व अधिकारी मैनुअल जरूर पढ़ें। कार्यालय में डाक पर नियंत्रण आवश्यक है। उच्च अधिकारियों द्वारा मांगी गई जानकारी सही समय पर भेजना चाहिए। कार्यशाला में अपर आयुक्त श्री सी.एस. डाहीरे, श्रीमती फरिहा आलम सिद्दीकी, अपर कलेक्टर श्री बी.सी. साहू, श्री बी.एस. उईक, एवं प्रशिक्षणार्थी उपस्थित रहे।