बिहार में इंसेफेलाइटिस का कहर जारी, 17 पहुंचा मौत का आंकड़ा

0
17

मुजफ्फरपुर 
बिहार में इंसेफेलाइटिस का कहर लगातार जारी है. इस जानलेवा बीमारी से हो रही मौत का आंकड़ा 17 तक जा पहुंचा है जबकि अभी भी कई बच्चों की हालत नाजुक बनी हुई है. अकेले मुज़फ्फरपुर में इसेफेलाइटिस को लेकर चीख पुकार मची गई है.

रविवार को अस्पताल में 13 बच्चे भर्ती किये गए जबकि तीन बच्चों की मौत हो गई. इस बीच सिविल सर्जन डॉ एपी सिंह ने एसकेएमसीएच का दौरा किया. पहले उन्होंने PICU में भर्ती बच्चों का हाल चाल लिया और इलाज के प्रोटोकॉल की समीक्षा की. सिविल सर्जन ने इसके बाद SKMCH के सुपरिंटेंडेंट और अन्य डॉक्टरों के साथ बैठक की.

पिछले एक सप्ताह के अंदर मुजफ्फरपुर में एक्यूट इंसेफिलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) और जापानी इंसेफिलाइटिस (जेई) नामक बीमारी से 12 बच्चों की मौत हो चुकी है. मुजफ्फरपुर के श्रीकृष्ण मेमोरियल कॉलेज अस्पताल (एसकेएमसीएच) में शुक्रवार को संदिग्ध एईएस से पीड़ित 21 बच्चों को भर्ती किया गया था, जबकि केजरीवाल अस्पताल में 14 मरीज पहुंचे थे.

मुजफ्फरपुर के सिविल सर्जन एसपी सिंह ने शनिवार को बताया था कि बच्चों की मौत के कारणों का पता लगाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि अधिकांश बच्चों में हाइपोग्लाइसीमिया यानी अचानक शुगर की कमी की पुष्टि हो रही है. उन्होंने भी माना कई बच्चों को तेज बुखार में लाया जा रहा है. उन्होंने इसे चमकी और तेज बुखार बताया.

इंसेफेलाइटिस का कहर उत्तरी बिहार खास कर के नेपाल के तराई में आने वाले इलाकों मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण, पश्चिम चंपारण, शिवहर, सीतामढ़ी व वैशाली में दिखता है. इस बार एसकेएमसीएच में जो मरीज आ रहे हैं वो मुजफ्फरपुर और आसपास के हैं.