राज्यपाल के बाद अब मंत्री पटवारी लेंगे कुलपतियों की बैठक, विरोध शुरू

0
18

भोपाल 

प्रदेश के समस्त विश्वविद्यालय के कुलपति और रजिस्ट्रार की बैठक उच्च शिक्षामंत्री जीतू पटवारी ने 14 जून रखी है। बैठक में 28 बिंदुओं चर्चा होगी। कुलपति मंत्री पटवारी की बैठक का विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि हमारी बैठक बुलाना राज्यपाल आनंदी बेन पटेल सिर्फ के क्षेत्राधिकार में हैं। कुलपति मंत्री के कार्यक्षेत्र से बाहर हैं। मंत्री पटवारी ने राज्यपाल के अधिकार क्षेत्र में हस्तक्षेप किया है, जिसकी सूचना राज्यपाल पटेल को दी जाएगी। 

मंत्री पटवारी राज्यपाल पटेल के क्षेत्राधिकार में हस्तक्षेप करने लगे हैं। वे कुलपति नियुक्ति से लेकर उन्हें हटाने तक की प्रक्रिया में दखल देते हैं। इसी चरण में उन्होंने सभी विवि के कुलपतियों की बैठक रखी है। अभी कोई भी उच्च शिक्षामंत्री कुलपतियों की बैठक नहीं करा सका है। बैठक में सभी विवि के कुलपतियों के साथ रजिस्ट्रार भी शामिल होंगे। कुलपति मंत्री की बैठक का विरोध करने लगे हैं। उनका कहना है कि हमरा नियुक्तिा राजभवन हैं। वे मंत्री के अधिकार क्षेत्र में नहीं आते हैं। इसके बाद भी मंत्री पटवारी उन्हें बैठक में बुला रहे हैं। हमारी बैठक लेने का अधिकारी सिर्फ राज्यपाल को है। समन्वय समिति की बैठक के बाद नैक के संबंध में राज्यपाल पटेल ने सभी कुलपतियों की बैठक कराई थी। 

सता रहा धारा 52 का डर 
एक ईमानदार कुलपति ने बताया है कि कुलपति भ्रष्टाचार में लिप्त हो गए हैं। इससे कुलपतियों की साखा लगातार गिर रही है। उन्हें शासन द्वारा धारा 52 लगाने का भय सता रहता है। इसलिए वे मंत्री पटवारी के सामने हाजिरी लगाने जाते हैं। इसके लिए चलते पटवारी ने पहली बार कुलपतियों को बैठक में बुला लिया है। बैठक में ढाई दर्जन बिंदुओं पर चर्चा होना है। उनसे कुलपतियों का कोई संबंध हैं। इस संबंध में सभी दस्तावेज रजिस्ट्रार के पास मौजूद हैं। मंत्री पटवारी सिर्फ दवाब बनाने कुलपतियों को बैठक में बुला रहे हैं। 

उक्त बिंदुाओं पर होगी चर्चा
कालेजों की संबद्धता, ई-प्रवेश का सत्यापन, लोकपाल के लंबित प्रकरणों की जानकारी, समन्वय समिति के निर्णय का परिपालन, परीक्षा और रिजल्ट, कालेज चलो अभियान, विवि में समस्त शैक्षणिक पदों की स्थिति, परीक्षा नियंत्रक, रजिस्ट्रार, रैक्टर,एआर और डीआर की स्थिति, भोज विवि के 276 स्कूलों में चलने वाले केंद्रों को कालेजों में स्थानांतरित करना, तीन वर्षों में क्रीडा, पुस्तकालय और विद्यार्थी कल्याण शुल्क की मदवार जानकारी, विवि के तीन वर्षों का लेखाजोखा, नैक अग्रेडेशन की तैयारी, विवि के न्यायालीन प्रकरण।