रोपवे निर्माण का नीतीश कुमार ने लिया जायजा, अक्टूबर तक पूरा करने के निर्देश

0
37

पटना
अक्टूबर महीने में विश्व शांति स्तूप का वार्षिक सम्मेलन होने वाला है. इसमें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के भी शिरकत करने की संभावना है. इसी को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजगीर में बन रहे नए रोपवे निर्माण का बारीकी से जायजा लिया. इस दौरान उन्होंने पर्यटन विभाग और डीएम योगेंद्र सिंह को रोपवे पर विद्युत संचरण को दुरुस्त करने के साथ जर्जर भवन को मरम्मत कराने का भी निर्देश दिया. मुख्यमंत्री ने आठ सीट वाले नए रोपवे को अक्टूबर से पहले निर्माण कार्य पूरा कराने का भी निर्देश पर्यटन विभाग को दिया.

गौरतलब है कि 25 अक्टूबर को विश्व शांति स्तूप का वार्षिक सम्मेलन है इसलिए मुख्यमंत्री चाहते हैं कि तब तक यह रोपवे तैयार हो जाए. निरीक्षण के दौरान पर्यटन मंत्री कृष्ण कुमार ऋषि, मंत्री अशोक चौधरी, सांसद कौशलेंद्र कुमार, विधायक रविज्योति, चन्द्रसेन प्रसाद सहित अन्य लोग भी मौजूद रहे.

बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूरे बिहार मे 8 विभिन्न क्षेत्रों में रोपवे के निर्माण की स्वीकृति प्रदान की है. राजगीर सहित अब बिहार के अन्य स्थानों के महत्ता के मद्देनजर रोपवे लगाये जा रहे हैं.

प्रदेश में सबसे पहले 1969 में राजगीर के रत्नागिरी पर्वत पर रोप लगायी गयी.बिहार में राजगीर के अलावा बाकांका मदौर पर्वत, रोहतासगढ़ का किला, मुंडेश्वरी कैमूर, बड़ाबर (बनावर), जहानाबाद, प्रेतशिला गया, ब्रह्मयोगी पर्व, डुंगेसरी गया में नए रोपवे लगाए जा रहे हैें.

बता दें कि शांति स्तूप तक जाने के लिये जापान सरकार के सहयोग से 1969 पहले रोप वे का निर्माण किया गया था. इसकी लम्बाई लगभग 2200 फीट है और इसमें 11 टावर तथा 101 कुर्सियां हैं.  यह पूर्णतः बिजली से चलती है. अब इसी के समानांतर एक और रोप वे बनायी जा रही है.