लॉकडाउन के बावजूद प्रदेश के हर बच्चे के दरवाजे तक पढ़ाई, आॅनलाइन टीचिंग का अनुभव अदभुत

0
37

रायपुर
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश पर स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा बनाए गए आॅनलाईन पोर्टल से लॉकडाउन के बावजूद हर बच्चे के दरवाजे पर पढ़ाई की व्यवस्था की जा रही है। आॅनलाईन पढ़ाई से शिक्षिकों को जहां अदभुत अनुभव हो रहा है, वहीं नई तकनीक होने के बावजूद बच्चे भी उत्साह से सींख रहे हैं।

राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद की शिक्षिका श्रीमती जस्सी कुरियन का 30 साल की शिक्षकीय यात्रा के दौरान यह पहला अवसर था जब उन्होंने राज्य के 87 बच्चों को आॅनलाइन पढ़ाया। उन्होंने बताया कि नि:संदेह शिक्षक के रूप में यह उनका अदभुत अनुभव था। आॅनलाइन पढ़ाई को लेकर उनकी जो भी झिझक और आशंकाएं थी, वो शुरूआती 5 मिनट में ही जाती रही। नई तकनीक होने के बावजूद विद्यार्थियों ने पूरे उत्साह के साथ इसमें भाग लिया और पूरी एकाग्रता के साथ पढ़ाई की। आॅनलाइन पढ़ाई में नियमित कक्षाओं की तरह गंभीरता भी थी और विद्यार्थियों का उत्साह बढ़ाने वाले हल्के-फुलके क्षण भी।

श्रीमती जस्सी कुरियन ने बताया कि आॅनलाइन क्लास में बच्चों को इंग्लिश एक्सप्रेशन के बारे में पढ़ाया। उन्हें खुशी, दु:ख, आश्चर्य, क्रोध आदि शब्दों को बोलते समय चेहरे के भावों को प्रकट करना बताया। विद्यार्थियों की प्रतिक्रिया से लगा कि वे स्क्रीन पर इस तरह से शब्द और भाव को प्रकट करने को सीखने में उन्हें आंनद आया। वो एक दूसरे को भी अपनी मुद्राओं में भाव प्रकट कर बताने लगे। बच्चे जिस उत्साह के साथ वातार्लाप कर रहे थे, अपनी जिज्ञासा को प्रकट कर रहे हैं थे, वह इस आॅनलाइन पढ़ाई का सर्वश्रेष्ठ भाग था। यह पाठ उस समय और आनंददायक हो गया, जब प्रदेश के अलग अलग जिलों से इस कक्षा में भाग ले रहे बच्चों ने एक साथ अंग्रेजी कवितापाठ किया। इस पद्धति ने हमें यह भी सीखा दिया कि लॉकडाउन के बावजूद हम किस तरह से प्रदेश के हर बच्चे के दरवाजे तक पढ़ाई को सफलतापूर्वक ले जा सकते हैं।

इस पढ़ाई का एक उल्लेखनीय पक्ष यह भी हैं कि बच्चों के साथ साथ उनके माता-पिता भी इसमें रुचि ले रहे हैं। आॅनलाइन पढ़ाई की सामग्री पीडीएफ के रूप में पूर्व में भेज देने से उन्हें इसे बार बार स्मरण करने और कक्षा में शामिल होने से पूर्व तैयारी करने में सहायता मिली। इन कक्षाओं के लिए राज्य शैक्षिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण परिषद और एनआईसी से जो सहयोग मिल रहा है। इससे आॅनलाईन अध्यापन का कार्य और आसान हो गया हैं। मुझे पूरा विश्वास है कि समय के साथ साथ यह विधा और बेहतर होती जायेगी और अधिक से अधिक विद्यार्थी इससे जुड़ते जाएंगे।