हाईकोर्ट में PIL दायर करेंगे पप्पू यादव, बोले-‘स्वास्थ्य मंत्री पर दर्ज हो हत्या का केस’

0
27

पटना 
पूर्व सांसद और जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने गया के एएनएमसीएच का दौरा किया और लू से पीड़ित मरीजों एवं उनके परिजनों को मिल रही सुविधाओं की जानकारी ली. इस दौरान मीडिया से बात करते हुए पप्पू यादव ने केंद्र और राज्य सरकार पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने मुजफ्फरपुर में AES और मगध प्रमंडल में लू से हो रही मौत के लिए सरकार को दोषी ठहराते हुए संबंधित विभाग के मंत्री और अधिकारी पर 302 के तहत हत्या का मामला दर्ज करने की मांग की.

उन्होंने इन दोनों ही मामलों में सरकार की लापरवाही को लेकर पटना हाईकोर्ट में पीआईएल दायर करने की घोषणा की. पप्पू यादव ने कहा कि दोनों जगह मरने वाले लोग बेहद ही गरीब और सामान्य परिवार के हैं जिसकी फिक्र किसी भी सरकार को नहीं है.

पप्पू यादव ने मुजफ्फरपुर दौरे के दौरान सीएम नीतीश कुमार के खिलाफ हुए विरोध प्रदर्शन का समर्थन करते हुए कहा कि ये विरोध और बढ़ने वाला है ​क्योंकि सरकार अपना काम  नहीं कर रही है.

पूर्व सांसद ने कहा कि वोट और महज एक अभिनंदन के लिए आसमान सिर पर उंठा लिया जाता है. यहां सैकड़ों लोग बेमौत मर रहे हैं, लेकिन संबंधित विभाग के मंत्री या तो सोए नजर आ रहे हैं  या भारत-पाकिस्तान क्रिकेट मैच का स्कोर और विकेट की जानकारी लेने के लिए परेशान हुए जा रहे हैं.

बता दें कि चमकी बुखार से 138 बच्चे काल की गाल में समा चुके हैं. मौत और मातम का कोहराम शुरू होने के 17 दिन बाद मंगलवार को जब सूबे के मुखिया नीतीश कुमार और डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी शहर के अस्पताल पहुंचे तो लोगों का आक्रोश फूट पड़ा. यहां उन्हें काले झंडे दिखाए गए और 'नीतीश कुमार वापस जाओ' के नारे लगे.

इससे पहले बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने 16 जून को AES से होने वाली मौतों के बारे में राज्य के स्वास्थ्य विभाग की बैठक के दौरान क्रिकेट स्कोर पूछा. इस पूरी घटना का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें मंगल पांडे को यह कहते सुना जा सकता है कि कितने विकेट आउट हुए हैं. इस पर पीछे से आवाज आती है 'चार.'

बच्चों की मौत से हाहाकार मचने के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन रविवार को मुजफ्फरपुर के दौरे पर थे. उन्होंने SKMCH पहुंचकर हालात का जायजा लिया. इसके बाद उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस की जिसमें केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे सोते हुए दिखे थे. जब अश्विनी चौबे से इस बारे में जब पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मैं मनन-चिंतन भी करता हूं, मैं सो नहीं रहा था.