CM योगी का निरीक्षण , पत्रकारों को अस्पताल की इमरजेंसी में किया बंद

0
15

  मुरादाबाद
 
जिला अस्पताल में मुख्यमंत्री के निरीक्षण के दौरान रविवार को डीएम की मौजूदगी में 20 से अधिक पत्रकारों और छायाकारों को अस्पताल के आपातकालीन चिकित्सा कक्ष में बंद कर दिया गया। कवरेज से रोके जाने से नाराज पत्रकारों ने हंगामा कर दिया। इसके बाद भी करीब 15 मिनट तक उन्हें कमरे से बाहर नहीं निकलने दिया गया। मुख्यमंत्री के जाने के बाद दरवाजा खुलने पर पत्रकार बाहर निकल सके। इसे लेकर आक्रोशित मीडियाकर्मियों की पुलिस से नोकझोंक भी हुई।

सुबह करीब साढ़े ग्यारह बजे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का काफिला जिला अस्पताल पहुंचा। मुख्यमंत्री की कवरेज के लिए मौजूद मीडिया कर्मी आपातकालीन चिकित्सा कक्ष में पहुंच गए। उन्हें उम्मीद थी कि सीएम पहले आपातकालीन चिकित्सा कक्ष में आएंगे, लेकिन सीएम सीधे इमरजेंसी वार्ड में चले गए। मीडियाकर्मी आपातकालीन चिकित्सा कक्ष से बाहर निकलकर वार्ड में जाते जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह के निर्देश पर कक्ष का दरवाजा बाहर से बंद कर दिया गया।  

मीडियाकर्मियों ने मुख्यमंत्री की कवरेज से रोके जाने पर हंगामा शुरू कर दिया। इस तरह अचानक रोके जाने से नाराज पत्रकारों ने शोर मचाना शुरू कर दिया। इसके बाद भी कमरा नहीं खोला गया उल्टा वहां मौजूद एसएसपी के पीआरओ नवल मारवाह को निर्देश दिया गया कि निरीक्षण खत्म होने तक वे पत्रकारों को बाहर न निकलने दें।  

मुख्यमंत्री वार्ड में जाकर मरीजों का हाल-चाल जानने लगे। हंगामा बढ़ने पर डीएम पुनः आए और दरवाजे को हल्का सा खोलकर पत्रकारों को समझाने की कोशिश की और पुनः दरवाजा बंद करवाकर चले गए। डीएम के जाने के बाद मीडियाकर्मियों ने हंगामा तेज कर दिया। इस दौरान मुख्यमंत्री आपातकालीन चिकित्सा वार्ड का निरीक्षण पूरा करने के बाद महिला अस्पताल की ओर मुड़ गए। पत्रकारों के काफी शोर-शराबे के बाद भी सीएम के निरीक्षण के बाद करीब 15 मिनट बाद कमरे का दरवाजा खोला गया। मीडियाकर्मियों ने डीएम और एसपी सिटी से विरोध जताया। इससे अस्पताल में अफरातफरी मची रही। 

सीएम के निरीक्षण के दौरान काफी संख्या में मीडिया के लोग अस्पताल पहुंच गए। उनसे आग्रह किया गया कि मुख्यमंत्री के साथ इतनी संख्या में लोगों का  वार्ड में आना मरीजों की सेहत के लिहाज से ठीक नहीं है। कुछ मीडिया वाले एक कमरे  में थे जबकि कुछ वार्ड में। सीएम का दौरा होते ही सभी लोग बाहर आ गए थे। कमरे में ताला बंद करने जैसी बात गलत है।
राकेश कुमार सिंह, जिलाधिकारी 

प्रियंका ने किया ट्वीट
पत्रकारों को बंधक बनाने का मामला शाम होते-होते वायरल हो गया। इस पर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी ट्वीट कर दिया।  प्रियंका ने लिखा कि पत्रकार बंधक बनाए जा रहे हैं, सवालों पर पर्दा डाला जा रहा है। समस्याओं को दरकिनार किया जा रहा है। प्रचंड बहुमत पाने वाली उत्तर प्रदेश भाजपा सरकार जनता के सवालों से मुंह बिचका रही हैं। नेताजी ये पब्लिक है ये सब जानती हैं। सवाल पूछेगी भी और जवाब लेगी भी।